हमारी संस्कृति में शनिवार की मान्यता

Shares 0

शनिवार का दिन भगवान शनिदेव का दिन है शनिदेव का नाम आते ही हमारे मन में एक डर सा पैदा हो जाता है क्योंकि शनिदेव बहुत ही शीघ्र क्रोधित होने वाले देवता हैं हम कई बार अपने बुजुर्गों से सुनते हैं कि शनिवार को हमें यह काम नहीं करना चाहिए वह काम नहीं करना चाहिए वरना शनिदेव रुष्ठ हो जाएंगे ऐसे ही कुछ कार्य हैं जो हमें शनिवार के दिन नहीं करनी चाहिए ज्योतिषी विज्ञान कहता है कि शनिदेव की दृष्टि जिस पर बनी होती है उसका कोई कार्य नहीं रुकता और जिस पर शनि देव की तिरछी दृष्टि पड़ जाती है वह बर्बाद हो जाता है आइए जानते हैं कि शनिवार के दिन हमें क्या नहीं करना चाहिए।

शनिवार के दिन हमें लोहे की वस्तुएं नहीं खरीदनी चाहिए ज्योतिष विज्ञान के अनुसार शनिवार के दिन हमें लोहा दान करना चाहिए लोहा खरीदने से शनिदेव नाराज हो जाते हैं तथा घर में बीमारियां घर कर जाती हैं  कि शनिवार को लोहा खरीदने से आकस्मिक दुर्घटना की संभावना बढ़ जाती है।
काले तिलों का प्रयोग हम खाने में तथा पूजा में प्रयोग करते हैं वही मान्यता है कि काले तिल का तेल के साथ शनिवार के दिन दान करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं तथा कार्यों में बाधा उत्पन्न नहीं होती।
ज्योतिष विज्ञान मानता है कि शनिवार के दिन नमक खरीदने से घर में दरिद्रता आती है इसलिए शनिवार को नमक खरीदने से बचे इसके साथ ही माना जाता है कि बैंगन को भी शनिवार के दिन नहीं खरीदना चाहिए।
झाडू जिससे कि हम घर की सफाई करते हैं उसका हमारे घर में बहुत ही पवित्र स्थान माना जाता है मान्यता है कि शनिवार के दिन झाड़ू नहीं खरीदनी चाहिए शनिवार के दिन झाड़ू खरीदना घर में दरिद्रता लाता है। तथा आकस्मिक रोग और बीमारियों को आमंत्रित करता है
इसके साथ-साथ काले जूते काले कपड़े तथा रसोई में जलने वाले ज्वलनशील पदार्थ अर्थात   इंधन नहीं खरीदने चाहिए और पैन में प्रयुक्त होने वाली स्याही शनिवार के दिन नहीं खरीदनी चाहिए इलेक्ट्रॉनिक सामान तथा छाता खरीदने से बचना चाहिए।
(Visited 4 times, 1 visits today)
* Advertisement
*

Leave a Reply