“भारत का सबसे भारी रॉकेट जीएसएलवी मार्क-3 आज होगा लॉन्च”-: जानें 11 रोचक तथ्य

जीएसएलवी (GSLV) मार्क -3 को आज 5:28 पर श्री हरिकोटा के अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपण किया जाएगा।जीएसएलवी के बारे में कुछ खास बातें हम आपको बताने जा रहे हैं।

 

1-: जीएसएलवी मार्क-3 भारत का सबसे भारी उपग्रह है तथा यह रॉकेट संचार उपग्रह जीसैट-19 उपग्रह को लेकर जाएगा।

2-: इसरो अभी तक 23 किलोग्राम से अधिक वजन के संचार उपग्रहों के लिए विदेशी लांचरों पर निर्भर था अब भारत का स्वयं का सबसे अधिक बजनी लांचर होगा।

3-: जीएसएलवी मार्क-3 4000 किलोग्राम तक के संचार उपग्रह को उठाने में सक्षम होगा।

4-: जीएसएलवी मार्क-3 भविष्य में अंतरिक्ष में मानव ले जाने में भी सक्षम होगा।

5-: जीएसएलवी मार्क-३ के सफल प्रक्षेपण के बाद भारत भी रूस, अमेरिका, चीन के बाद चौथा देश होगा जो स्वयं मानवीय अंतरिक्ष उड़ान में सहायक होगा।

6-: मार्क-3 के सफल प्रक्षेपण से इंटरनेट नेटवर्क को एक नई दिशा मिल जाएगी इससे ऐसी इंटरनेट सुविधाएं मिलेंगी जो पहले कभी उपलब्ध नहीं हुई थी।

7-: यह तीन चरणों का रॉकेट है- इसमें दो ठोस, एक द्रव नोदक कोर, और एक क्रायोजनिक शामिल हैं।

 

 

8-: मार्क-3 का भजन 200 हाथियों के वजन के बराबर है जो भारत का सबसे भारी स्वदेशी रॉकेट होगा।

9-: अकेला जीसैट- 19 अंतरिक्ष में 6-7 पुराने किस्म के संचार उपग्रहों के समूह के बराबर होगा।

10-: जीसैट-19 को भारत में बनी लिथियम आयरन बैटरियों से संचालित किया जा रहा है जो कि पहली बार हो रहा है।

11-: भारत देश जो अभी तक ऑप्टिकल फाइबर, कॉपर आधारित टेलीफोन और मोबाइल सेलुलर सेवाओं पर निर्भर था इसके द्वारा फाइबर ऑप्टिक इंटरनेट की पहुंच से दूर स्थानों को जोड़ने में सक्षम होगा तथा इंटरनेट की कनेक्टिविटी और स्पीड भी बढ़ेगी।

(Visited 23 times, 1 visits today)
* Advertisement
*

Leave a Reply