बच्चों के भविष्य के लिए- “5 बेहतरीन निवेश योजनाएं”!!!

हर माता पिता अपने बच्चों की परवरिश अच्छे ढंग से करना चाहता है बच्चों की अच्छी शिक्षा और बेहतर भविष्य के लिए वह तरह तरह की बीमा योजनाओं में भी पैसा लगाते हैं जिससे निश्चित समय पर बच्चों की उच्च शिक्षा व विवाह के लिए पैसा इकट्ठा मिल सके। यह बीमा योजनाएं माता पिता के आकस्मिक निधन के बाद भी बच्चों के भविष्य में मददगार होती है।

बच्चों के लिए बीमा योजना लेने के लिए आप हमारे द्वारा बताई गई बीमा योजनाओं में से किसी को भी चुन सकते हैं।

बाल निवेश बचत योजनाएं-:

1- पीपीएफ -: पब्लिक प्रोविडेंट फंड कई कारणों से निवेश करने के लिए अच्छा विकल्प है। पीपीएफ एक 15 साल की योजना है जिसमें एक निश्चित राशि जमा करके एक बड़ी कोष राशि का निर्माण किया जा सकता है। पीपीएफ में 8.1 प्रतिशत की दर से जमा पैसे पर ब्याज दिया जाता है जिसमें आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत डेढ़ लाख रुपए तक टैक्स में भी छूट मिलती है।

 

 

2- सुकन्या समृद्धि योजना-: सुकन्या योजना कन्याओं के लिए एक बेहतरीन योजना है। 10 साल तक की बेटियों का खाता इस योजना के तहत खोला जाता है। सुकन्या योजना में कम से कम ₹1000 और अधिक से अधिक 1,50,000 रुपए तक महीने में जमा किये जा सकता है। इस खाते में 14 वर्ष तक पैसा जमा किया जाता है तथा बेटी की 21 वर्ष की उम्र पूरा होने पर यह पैसा ब्याज लग कर मिल जाता है। 2015-16 में इस योजना में ब्याज दर 9.2% थी। यह योजना भी कर मुक्त है।

3- गोल्ड सेविंग-: गोल्ड में निवेश भी एक अच्छा विकल्प है गोल्ड को भौतिक रूप में खरीदने की बजाय ईटीएफ रूप में खरीदें। ईटीएफ में निवेश करने से आपको 20 से 28 प्रतिशत तक रिटर्न मिल जाता है।

 

 

4- जीवन किशोर योजना-: इस योजना के तहत 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे की भी पॉलिसी कराई जा सकती है यह पॉलिसी बच्चों के 18 वर्ष पूरे होने पर अपने आप बच्चों के नाम पर ट्रांसफर हो जाती है इस पॉलिसी में पहले दिन से ही अच्छा खासा बोनस मिलता है।

5- इक्विटी म्यूच्यूअल फंड-: इक्विटी म्यूचुअल फंड लंबी अवधि में मिलने वाले मुनाफे के मामले में अपनी उपयोगिता सिद्ध कर चुके हैं उदाहरण के लिए कई इक्विटी म्यूचुअल फंड बैंक में जमा राशि से प्राप्त होने वाले मुनाफे से कहीं अधिक लाभ देते हैं यह एक लंबी अवधि के लिए एक अच्छा विकल्प है।

(Visited 18 times, 1 visits today)
* Advertisement
*

Leave a Reply